कल तक थीं जो कोरोना वॉरियर्स, अपने हक के लिए आज उतरी हाइवे पर-सरकार के विरोध में जमकर की नारेबाजी

शिवपुरी। नर्सेज एसोसिएशन के बैनर तले तीसरे दिन शुक्रवार को भी अपनी मांगों को भी स्टाफ नर्स लेकर हड़ताल पर रहीं। बता दें कि कल तक जो स्टाफ नर्स कोरोना वॉरियर्स थी, उन्हें अपने हक के लिए आज शुक्रवार को नेशनल हाइवे पर आकर सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी करती नजर आईं। एसोसिएसन का कहना था कि अगर सरकार हमारी मांगे नहीं मानती तो मजबूरन हमें अपने आंदोलन को उग्र रूप देना पड़ेगा। जिसके जिम्मेदार शासन प्रशासन होंगे।

मेडिकल कॉलेज के कैंपस में काली पट्टी बांधकर सरकार के विरोध में अपने हक के लिए तीसरे दिन भी शासन से अपनी मांगो को मनवाने के लिए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहीं। एसोसिएशन की जिला अध्यक्ष इरम सुल्ताना ने बताया कि हम अपने मध्य प्रदेश के एसोसिएशन के साथ है जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती तब तक हम हड़ताल पर रहेंगे। प्रदेश के मुखिया होने के नाते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को हमारी मांग मानना चाहिए।

इस अवसर पर जिला अध्य्क्ष इरम सुल्ताना,उपाध्यक्ष अंजुलता राय, प्रियंका शुक्ला ,सचिव शीना राठौर, रेखा बरिवै,सहसचिव ज्योति दुबे मिश्रा, कोषाध्यक्ष राखी दुबे मीना प्रजापत, मीडिया प्रभारी इंदु चौधरी, मीडिया प्रभारी पूजा यादव,संगठन सचिव भानूप्रिया खेडे, अंजली झारिया,अर्चना कुशवाह, कार्यकारिणी अध्यक्ष बीना जोसफ,मैरी अंजिता कुजुर ,कार्यकारिणी सदस्य, संजू राजौरा, सपना तोमर,ज्योति ग्रेस, प्रीतम शर्मा, नेहा ठाकरे, संगीता शाक्य, दीपिका ज्योतिष वर्मा, अंजली,मैरी अरजिता, अरूणा परमार,श्रद्धा गांधी, बबीता रेनू साहू, नगमा खातून, डोली कुशवाह, वर्षा कुशवाह, प्रीति नरवरिया, माधुरी जाट, पूजा जंगेला, ज्योति मंडल, ममता राज पाली, जूही राज पाली, दीपिका ज्योतिष वर्मा, पुष्पा देवी कुशवाह, रेखा सिंह, पुष्पा पटेल, नेहा ठाकरे, आसमा परवीन, मीना प्रजापत, भारती प्रजापति, अमनदीप गिल, अनीता हारोड़े, श्वेता सिन्हा, दीपांजल आर्य, साधना भदौरिया, विनीता कुशवाहा, विजेता झरबड़े, सुशीला ददोरे, अर्चना कुशवाहा,सपना पटेल, शिवाली मोहिते, आशा निगम, प्रियंका सिंह, पूजा झंगेले, ज्योति चौरसिया, उषा किरण तरीके,आशा जाटव, प्रभा पाटिल, अनीता बाई, आशा कमरे, पुष्पा भारती स्वामी, पिल्लई प्रियंका गुप्ता, जय श्रीवास्तव, प्रीतम शर्मा सुनैना मोहिते, संगीता शाक्य आदि काली पट्टी बांधकर अपनी मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहीं।

ये हैं नर्सेस एसोसिएशन की मांग
उच्च्य स्तरीय वेतनमान (2ठ्ठस्र त्रह्म्ड्डस्रद्ग) अन्य राज्यो की तरह मध्य प्रदेश मे कार्यरत समस्त नर्सेस को दिया जाए। पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए। कोरोना काल मे शहीद हुए नर्सिंग स्टाफ के परिजन को अनुकम्पा नियुक्ति देने के साथ 15 अगस्त को राष्ट्रीय कोरोना योद्धा अवार्ड से सम्मानित किया जाए। कोरोना काल में शासन स्थर पर जितनी भी घोषणा की गई उन पर अमल नहीं किया गया।

कोविड -19 में नर्सेस को सम्मानित करते हुए अग्रिम दो वेतन वृद्धी का लाभ उनकी वेतन मे लगाया जाए। 2018 के आदेश भर्ती नियमों में संसोधन करते हुए 70 प्रतिशत , 80 प्रतिशत एवम 90 प्रतिशत का नियम हटाया जाए एवम प्रतिनियुक्ति समापन कर स्थानांतरण की प्रक्रिया शुरु की जाए। सरकारी कॉलेजों में सेवारत रहते हुए नर्सेस को उच्च्य शिक्षा हेतु आयु बंधन हटाया जाये एवम मेल नर्स को समान अवसर दिया जाए।

कोरोना काल मे आस्थाई रुप से भर्ती की गई नर्सेस को नियमित किया जाये एवम प्राइवेट कम्पनी से लगाई गई नर्सेस को भी उनकी योग्यता के अनुसार नियमित किया जाए । कोरोना काल में इनके योगदान को भी भुलाया नहीं जा सकता। मध्य प्रदेश मे कार्यरत नर्सेस को एक ही विभाग मे समान कार्य के लिये समान वेतनमान दिया जाए।

वर्षो से लंबित पडी पदोन्नति को शुरु करते हुए नर्सेस की पदोन्न्ति की जाए एवम नर्सेस को डेजिगनेशन प्रमोशन दिया जाए एवम अन्य राज्यों की तरह नर्सेस के नाम परिवर्तित किए जाए, मेल नर्स की भरती की जाए। स्वशासी में पदस्त नर्सेस को 7 वी वे कमीशन का लाभ सन 2018 के वजह सभी कर्मचारियों की भांती सन 2016 से दिया जाए। शासकीय नर्सिंग कोलेज वा स्कूल मे अध्ययनरत छात्राओ को कलेक्ट्रेट पर मानदेय दिया जाए लगभग 18000 रुपये प्रतिमाह।

Share this:
Contact us
close slider
%d bloggers like this: