सिंघु बॉर्डर पर एक और किसान की मौत लाल किले पर झंडा लगाने का आरोपी दीप सिद्धू अरेस्ट

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे एक और किसान की मंगलवार सुबह मौत हो गई। वजह हार्ट अटैक बताई जा रही है। घटना दिल्ली-हरियाणा के बीच स्थित सिंघु बॉर्डर की है। मृतक का नाम हरिंदर और उम्र करीब 50 साल थी। वे पानीपत जिले के सेवा गांव के रहने वाले थे। इससे पहले सोमवार को  रोहतक में एक बुजुर्ग किसान की मौत हुई थी। उन्हें 16 जनवरी को ठंड लगने पर टीकरी बॉर्डर से लाकर भर्ती कराया गया था।

टीकरी बॉर्डर पर ही रविवार को एक किसान का शव पार्क में पेड़ से लटका मिला था। उनका नाम कर्मवीर सिंह (52) था। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा था, ‘भारतीय किसान यूनियन जिंदाबाद। मोदी सरकार बस तारीख पर तारीख दे रही है। कोई नहीं कह सकता कि काले कानून कब वापस होंगे।’ सोनीपत के सिंघु बॉर्डर पर अब तक 17 किसान जान गवां चुके हैं

आरोपी सिद्धू गिरफ्तार, उस पर एक लाख का इनाम था
हरिंदर की मौत की दुखद खबर से पहले दिल्ली में 26 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में दीप सिद्धू को अरेस्ट करने की खबर आई। पंजाबी सिंगर सिद्धू पर लाल किले पर धार्मिक झंडा लगाने और लोगों को उकसाने का आरोप है। उस पर दिल्ली पुलिस ने एक लाख रुपए का इनाम रखा था।

दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने बताया कि दीप सिद्धू अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने वाली अपनी एक मित्र के संपर्क में था। वह एक्ट्रेस भी है। दीप इस मित्र को वीडियो भेजता था और वह इन वीडियो को दीप सिद्धू के सोशल मीडिया अकाउंट पर अपलोड करती थी।

कुछ दिन पहले ही दीप सिद्धू का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें उसने किसान नेताओं को धमकाया था। उसने कहा था कि किसान नेता जमीन बचाने के लिए नहीं, बल्कि राजनीति करने के लिए आंदोलन कर रहे हैं।

कुरुक्षेत्र में आज महापंचायत, पर विवाद पहले हो गया
कुरुक्षेत्र की अनाज मंडी में होने वाली महापंचायत से पहले एक विवाद खड़ा हो गया है। यहां किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी को न्योता नहीं दिया गया था, जबकि कुरुक्षेत्र चढ़ूनी का गृह जिला है।

चढ़ूनी ने कहा कि उन्हें महापंचायत की जानकारी नहीं दी गई थी और इसके बाद उन्होंने दूसरी जगह के कार्यक्रम तय कर लिए थे। ऐसे में वो अब महापंचायत में नहीं जाएंगे। हालांकि, महापंचायत के जसतेज संधू ने कहा कि चढ़ूनी को न्योता दिया गया था और उन्होंने वक्त निकालकर महापंचायत में आने की बात कही है।

मोदी की अपील पर किसान फिर बातचीत को तैयार
राज्यसभा में मोदी की स्पीच के कुछ घंटे बाद संयुक्त किसान मोर्चे के सदस्य शिव कुमार कक्का ने कहा था कि वे अगले दौर की बातचीत के लिए तैयार हैं, सरकार उन्हें मीटिंग का दिन और समय बता दे।

हालांकि, कक्का ने कहा था कि लोकतंत्र में आंदोलन की अहम भूमिका होती है। लोगों को सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने का अधिकार है। मोदी के बयान पर राकेश टिकैत ने कहा था, प्रधानमंत्री ने कहा कि रूस्क्क है, था और रहेगा, लेकिन यह नहीं बोले कि एमएसपी पर कानून बनाया जाएगा। देश भरोसे से नहीं चलता। यह संविधान और कानून से चलता है।

Share this:
Contact us
close slider
%d bloggers like this: