उत्तराखंड में रेस्क्यू का तीसरा दिन
अब तक 29 लोगों के शव मिले, एनटीपीसी की टनल में फंसे 35 वर्कर्स का रेस्क्यू जारी

देहरादून। उत्तराखंड के चमोली में तपोवन की एनटीपीसी टनल में फंसे 35 लोगों को निकालने का काम तीसरे दिन भी जारी है। ढाई किलोमीटर लंबी इस टनल में पानी की वजह से मलबा दलदल में बदल गया है। इस वजह से ऑपरेशन में दिक्कत आ रही है। आईटीबीपी की अधिकारी अपर्णा कुमार ने बताया कि रातभर टनल से मलबा हटाया गया है। अभी तक टनल में फंसे किसी भी मजदूर से संपर्क नहीं हो पाया है।

3 दिन के रेस्क्यू ऑपरेशन में पहली बार ऋषिगंगा प्रोजेक्ट साइट से 2 शव बरामद हुए हैं। अब तक 29 लोगों के शव मिल चुके हैं। सरकार के मुताबिक हादसे के बाद 206 लोग लापता हो गए। इनमें से 177 लोगों का अभी तक पता नहीं चल पाया है।
टनल के 130 मीटर हिस्से से मलबा हटाया

एनटीपीसी की ढाई किलोमीटर लंबी दूसरी टनल में रविवार रात पानी बढ़ जाने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन रोकना पड़ा था। एनडीआरएफ की टीम ने सोमवार सुबह जलस्तर घटने के बाद ऑपरेशन फिर शुरू कर दिया था। देर शाम तक इस टनल के 130 मीटर हिस्से से मलबा हटा दिया गया है।

सेना और बीआरओ बनाएंगे चीन बॉर्डर को जाने वाला पुल
उत्तराखंड के चमोली जिले में भारत-चीन सरहद को जोडऩे वाला पक्का पुल भी टूट गया था। यह पुल बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन, यानी बीआरओ ने बनाया था। सेना की इंजीनियरिंग कोर और बीआरओ मिलकर यहां पर जल्द ही एक लोहे का वैली पुल बनाएंगे ताकि सेना की गाडिय़ों की आवाजाही शुरू हो सके।

Share this:
Contact us
close slider
%d bloggers like this: