ग्वालियर नगरनिगम के फर्जी दस्तावेज बनाए गए.फर्जी दस्तावेजों पर एलआईसी ने जारी किए करोड़ों के लोन

खबर ग्वालियर में फर्जीवाड़े का एक बड़ा मामला सामने आया है, जिसमें विश्वसनीय कंपनी एलआईसी से फर्जी दस्तावेजों के आधार पर लाखों रुपए के लोन लिए गए, इस मामले का खुलासा सबसे पहले हमारे चैनल द्वारा किया जा रहा है सुनिए क्या है पूरा मामला, मामला दरअसल ऐसा है कि एलआईसी जो कि एक बहूप्रतिष्ठित कंपनी है इस कंपनी के द्वारा फर्जी भवन निर्माण मंजूरी के आधार पर लोन दिए गए हैं, वीडियो में दिखाया जाने वाला दस्तावेज नगर निगम द्वारा दिए जाने वाली भवन निर्माण मंजूरी का है इस दस्तावेज क्या आधार पर एलआईसी से लोन जारी हुआ इस दस्तावेज का सत्यापन कराने पर नगर निगम द्वारा लिख कर दिया गया कि यह दस्तावेज विभाग से जारी नहीं हुआ है, मतलब यह फर्जी है, आपको बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है, महाराजपुरा गिर्द के वार्ड नंबर 18 और सर्वे नंबर 587 और 588 के अंश भाग पर सैकड़ों की तादाद में इस तरह के फर्जी दस्तावेजों पर लोन बांटे गए हैं, इस फर्जीवाड़े में कमीशन और दलालों की मुख्य भूमिका रहती है, मामले की जानकारी जब एलआईसी के मैनेजर उमेश दांतले और नगर निगम के भवन अधिकारी राकेश कश्यप को दी गई तो दोनों ही अधिकारी बगले झांकते नजर आए आए, और कैमरे पर कुछ भी बोलने से इनकार किया, एलआईसी के एक ब्रोकर तो यहां तक बोलते नजर आए कि यह काम तो सभी हाउसिंग लोन देने वाली कंपनियों में होता है आप एलआईसी के पीछे ही क्यों पड़े हैं.देखना यह है कि नगर निगम कमिश्नर जो कि अपनी तत्काल कार्यवाहीओं के लिए जाने जाते हैं, वे इस मामले पर क्या कार्रवाई करते हैं.. क्योंकि फर्जी दस्तावेज बनाया किसी ने भी हो है तो नगर निगम विभाग का ही

Share this:
Contact us
close slider
%d bloggers like this: